Bekasi Lyrics By Mir Hasan Mir

01/08/2022 966

CHECK OUT The New Bekasi Lyrics(Roman Urdu/Hindi) By Mir Hasan Mir 2022. The Latest Urdu Noha Bekasi Is Recited By Mir Hasan Mir And The Urdu/Hindi Lyrics Are Written By Mir Anees.

Bekasi lyrics

Bekasi Song Details

Song: Bekasi
Singer: Mir Hasan Mir
Music: Raza Shah
Starring: Mir Hasan Mir
Label: Mir Hasan Mir
Rattings:

    Avg Rating 5.00 by 2 User(s)

Bekasi Lyrics 🕮

Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Sub Huwe Serab Tuj Sy Ay Fraat
Kafala Yasrab Ka Paiyasa Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Zohar Tak Jab Fooj Puhnchi Khuld Main
Sahibe Lashkar Akela Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Iss Qadar Tha Khushk Hazrat Ka Gala
Khangar E Qatil Bhi Peyasa Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Dagmaga Kar Jab Gire Ghure Shah
Kaap Kar Arsh E Mualla Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Kahti Thi Maa Soye Asghar Kabar Main
Haye Khali Un Ka Jhula Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Zakhm Kha Ty Hi Jo Akbar Gir Pare
Chid Ke Barchi Main Kaleja Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

Jab Huwi By Parda Aulad E Rasool
Phir Jahan Main Kis Ka Parda Reh Gaya
Mujrai Mahman Peyasa Reh Gaya
Bekasi Ka Sheh Ki Charcha Reh Gaya

बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

बेकासी का शहर की चर्चा रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

सब हुवे सेराब तुज सी एई फ्रैट
कफला यासरब का पैयासा रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

जोहर तक जब फूज पुंछी खुल्द मैं
साहिबे लश्कर अकेला रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

इस क़दर था ख़ुश हज़रत का गला
खंगार ए कातिल भी प्यासा रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

दगमागा कर जब गिरे घुरे शाह
काप कर अर्श ए मुअल्ला रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

कहती थी मां सोया असगर कबर मैं
हाय खली उन का झूला रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

ज़ख्म खा ते ही जो अकबर गिर परे
चिड़ के बरछी मैं कालेजा रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

जब हुवी परदा औलाद ई रसूल द्वारा
फिर जहां मैं किस का परदा रह गया
मुजराई महमन प्यासा रह गया
बेकासी का शहर की चर्चा रह गया

Bekasi Video




Raza Shah Mir Hasan Mir

Latest Music Lyrics 2020