Bhai Ka Lasha Lyrics Mir Hasan Mir

04/08/2022 3404

CHECK OUT The New Bhai Ka Lasha Lyrics(Roman Urdu/Hindi) Mir Hasan Mir 2022. The Latest Urdu Noha Bhai Ka Lasha Is Recited By Mir Hasan Mir,Mir Qasim Mir And The Urdu/Hindi Lyrics Are Written By Mir Takallum.

Bhai Ka Lasha lyrics

Bhai Ka Lasha Song Details

Song: Bhai Ka Lasha
Singer: Mir Hasan Mir Mir Qasim Mir
Music: Raza Shah
Starring: Mir Hasan Mir,Mir Qasim Mir
Label: Mir Hasan Mir
Rattings:

    Avg Rating 5.00 by 3 User(s)

Bhai Ka Lasha Lyrics 🕮

Ary Doshman Ko Bhi Na Bhai Matam Khuda Dikhaye
Logo Batao Bhai Ko Bhai Kahan Sa Laye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Lashay Pe Alamdar Ke Sheh Kehte Thy Haye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Kya Sani E Zahra Main Batlaon Ga Bhaiya
Main Lash Sa Uth Kar To Nahi Jaaun Ga
Ab Shimr Yahi Aa Ke Churi Mujh Pe Chalay
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Phat Jaye Ga Gham Sa Mera Dil Tham Lo Abbas
Ab Deer Bohat Ho Gai Ghar Ko Chalo Abbas
Aesa Na Ho Maqtal Main Sakina Chali Aaye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Ab Hathon Main Larzan Hai Kaha Jaan Rahi Hay
Mazloom Ki Ghurbat Main Kamar Toot Gai Hay
Ya Rab Kisi Doshman Pe Bhi Ye Waqt Na Aaye

Ho Gaye Marna Sitam Abbas Ka
Abbas Pani Lao Abbas Pani Lao

Hathon Main Khali Kuze Bachain Liye Huwe Hain
Gir De Sakina Daikho Halka Kiye Huwe Hain
Bachay Na Jane Kab Ka Pani Piye Huwe Hai
Bin Aab Par Na Jayen Pani Inhein Pilao
Abbas Abbas Pani Lao Abbas Pani Lao
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Pehlo Main Sada Main Ne Bithaya Tumhain Bhai
Jis Bhai Ne Godi Uthaya Tumhain Bhai
Wo Bhai Bhala Kaise Teri Laash Uthaye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Maa Behne Hain Ham Shakl E Payambar Ke Hawale
Main Mashk O Alam Karta HonAkbar Ke Hawale
Himat Nahi Shabbir Main Jo Khaimo Main Jaye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Sadat Hay Ye Sham Ke Lashkar Ko Batao
Jate Howe Ye Shimr Sa Kehte Huwe Jao
Wo Meri Sakina Ko Tamache Na Lagaye

Toot Gayi Aas Meri Toot Gayi Aas

Dair Huwi Mere Chacha Jaan Sidharain
Akbar O Baba Hain Gaye Nehar Kinare
Are Amma Mera Kalb Jala Payas Ke Mare
Toot Te Jatain Hain Mere Dil Ke Sahare
Toot Gayi Aas Meri Toot Gayi Aas
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Akbar Ko Abhi Jane Do Ham Ne To Kaha Tha
Ulad To Mil Jati Hai Bhai Nahi Milta
Shabbir Kahan Sa Tumhain Dhond Ke Laye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Sadat Ye Kehte Hain Ham Payase Rahain Gy
Tum Ne Na Piya Pani To Ham Bhi Na Piyain Gy
Allah Hamain Payasa Hi Dunya Se Uthaye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

Murr Murr Ke Take Jate Thy Abbas Ka Lasha
Girte Khabhi Uthte Thy Takallum Sheh E Wala
Akbar Bari Mushkil Sa Sambhale Huwe Aaye
Bhai Ko Khuda Bhai Ka Lasha Na Dikhaye

आर्य दोशमन को भी ना भाई मातम खुदा दिखाये
लोगो बताओ भाई को भाई कहाँ सा लाये
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

लशे पे आलमदार के शे कहते हैं तेरे हाय
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

क्या सनी ए ज़हरा मैं बटलाओं गा भैया
मैं लश सा उठा कर तो नहीं जान गा
अब शिम्र यही आ के चुरी मुझे पे चले
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

फट जाए गा गम सा मेरा दिल थाम लो अब्बास
अब हिरण बोहत हो गया घर को चलो अब्बास
ऐसा ना हो मकतल मैं सकीना चली आई
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

अब हाथो मैं लारजान है कहा जान रही हाय
मजलूम की घुरबत मैं कमर टूट गई हाय
या रब किसी दुश्मन पे भी ये वक्त ना आया

हो गए मरना सीताम अब्बास का
अब्बास पानी लाओ अब्बास पानी लाओ

हाथो मैं खली कुजे बचान लिए हुए हैं
गिर दे सकीना दाइखो हल्का किया हुआ है
बचे ना जाने कब का पानी पिए हुए हैं
बिन आब पर ना जाने पानी में पिलाओ
अब्बास अब्बास पानी लाओ अब्बास पानी लाओ
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

पहले मैं सदा मैं ने बिठाया तुमहैं भाई
जिस भाई ने गोदी उथया तुमहैं भाई
वो भाई भला कैसे तेरी लाश उठाये
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

माँ बनने हैं हम शकल ए पयाम्बर के हवाला
मैं मशक ओ आलम कर्ता माननीय अकबर के हवाला
हिम्मत नहीं शब्बीर मैं जो खैमो मैं जाए
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

सादात हे ये शाम के लश्कर को बताओ
जटे होवे ये शिमर सा कहते हुए जाओ
वो मेरी सकीना को तमाचे ना लगाये

टूट गई आस मेरी टूट गई आस

डेयर हुई मेरे चाचा जान सिद्धरैं
अकबर ओ बाबा हैं गए नेहर किनारे
क्या अम्मा मेरा कल्ब जला पायस के मारे
टूटे ते जतन हैं मेरे दिल के सहारा
टूट गई आस मेरी टूट गई आस
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

अकबर को अभी जाने दो हम ने तो कहा था
उलाद तो मिल जाती है भाई नहीं मिला
शब्बीर कहां सा तुम्हैं धोंड के लाए
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

सादात ये कहते हैं हम पायसे रहा ग्यो
तुम ने ना पिया पानी तो हम भी ना पियाएं ग्यो
अल्लाह हम पायसा ही दुनिया से उठाये
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

मुर्र मुर्र के ले जाते तेरे अब्बास का लश
गिरते खबरी उठते तेरा तकल्लुम शे ए वाला
अकबर बारी मुश्किल सा संभाले हुए आए
भाई को खुदा भाई का लाशा ना दिखाये

Bhai Ka Lasha Video




Raza Shah Mir Hasan Mir Mir Qasim Mir

Latest Music Lyrics 2020