Chor Fikr Duniya Ki Naat Lyrics By Hafiz Tahir Qadri

30/04/2022 2042

CHECK OUT The New Chor Fikr Duniya Ki Naat Lyrics (Roman Urdu/Hindi) By Hafiz Tahir Qadri 2022. The Latest Urdu Naat CHOR FIKR DUNIA KI is Recited By Hafiz Tahir Qadri and The Urdu/Hindi Naat Lyrics are Written By Aleemuddin Aleem.

Chor Fikr Duniya Ki Naat lyrics

Chor Fikr Duniya Ki Naat Song Details

Song: Chor Fikr Duniya Ki Naat
Singer: Hafiz Tahir Qadri
Starring: Hafiz Tahir Qadri
Label: Hafiz Tahir Qadri
Rattings:

    Avg Rating 3.90 by 10 User(s)

Chor Fikr Duniya Ki Naat Lyrics 🕮

Chor fikr duniya ki chal Madiny chalty hai
Mustafa ghulamo ki kismaty Badal te hai

Rehmato Ke Badal Ke Saaye Saath Chalty Hain
Mustafa Ke Deewany Ghar Se Jab Nikalty Hain

Chor Fikr Duniya Ki, Chal Madiny Chalty Hain
Mustafa Ghulamo Ki Qismatein Badal Te Hain

Humko Roz Milta Hai Sadqa Pyary Aaqa Ka
Unke Dar Ke Tukdo Par Hum 
Jaise Khush Naseeb Palty Hain

Chor Fikr Duniya Ki, 
Chal Madine Chalty Hain,
Mustafa Ghulamo Ki 
Qismatein Badal Te Hain

Aamina Ke Pyare Ka, 
Sabz Gumbad Waaly Ka
Jashn Hum Manaty
Jalne Waale Jalte Hain

Chor Fikr Duniya Ki, 
Chal Madine Chalte Hain,
Mustafa Ghulamo Ki 
Qismatein Badal Te Hain

Sirf Saari Duniya Me
Wo Taiba Ki Galiya(n) Hain
Jis Jagah Pe Hum Jaisy 
Khote Sikke Chalte Hain

Chor Fikr Duniya Ki, 
Chal Madine Chalte Hain,
Mustafa Ghulamo Ki 
Qismatein Badal Te Hain

Sach Hain Gair Ka Ehsaan, 
Wo Kabhi Nahi Lete
Aay Aleem Aaqa Ke 
Jo Tukdo Pe Palte Hain

Chor Fikr Duniya Ki, 
Chal Madine Chalte Hain,
Mustafa Ghulamo Ki 
Qismatein Badal Te Hain

चोर फ़िक्र दुनिया की चल मदिनी चलती है
मुस्तफा गुलामो की किस्मत बदल ते है

रहमातो के बादल के साये साथ चलते हैं
मुस्तफा के दीवानी घर से जब निकलती हैं

चोर फ़िक्र दुनिया की, चल मदिनी चलती हैं
मुस्तफा गुलामो की किस्मतें बदल ते हैं

हमको रोज़ मिला है सदका प्यारी आका का
उनके दार के टुकड़े पर हम
जैसे खुश नसीब पलटी हैं

चोर फ़िक्र दुनिया की,
चल मदीन चलती हैं,
मुस्तफा गुलामो की
क़िस्मतें बादल ते हैं

आमिना के प्यारे का,
सब्ज़ गुंबद वाली का
जश्न हम मनात्य
जाने वाले जलते हैं

चोर फ़िक्र दुनिया की,
चल मदिन चलते हैं,
मुस्तफा गुलामो की
क़िस्मतें बादल ते हैं

सिरफ सारी दुनिया में
वो तैयबा की गलियां (एन) हैं
जिस जगह पे हम जैसे
खोटे सिक्के चलते हैं

चोर फ़िक्र दुनिया की,
चल मदिन चलते हैं,
मुस्तफा गुलामो की
क़िस्मतें बादल ते हैं

सच हैं गैर का एहसान,
वो कभी नहीं लेते
ऐ अलीम आका के
जो टुकडो पे पलटे हैं

चोर फ़िक्र दुनिया की,
चल मदिन चलते हैं,
मुस्तफा गुलामो की
क़िस्मतें बादल ते हैं

Chor Fikr Duniya Ki Naat Video




Hafiz Tahir Qadri

Latest Music Lyrics 2020