Hussain Tere Lahu Ki Khushbo Lyrics By Farhan Ali Waris

30/07/2022 11998

CHECK OUT The New Hussain Tere Lahu Ki Khushbo Lyrics(Roman Urdu/Hindi) By Farhan Ali Waris 2022. The Latest Urdu Noha Hussain Tere Lahu Ki Khushbo Is Recited  By Farhan Ali Waris And The Urdu/Hindi Noha Lyrics Are Written By Farhan Ali Waris.

Hussain Tere Lahu Ki Khushbo lyrics

Hussain Tere Lahu Ki Khushbo Song Details

Song: Hussain Tere Lahu Ki Khushbo
Singer: Farhan Ali Waris
Music: Farhan Ali Waris
Label: Farhan Ali Waris
Rattings:

    Avg Rating 4.75 by 8 User(s)

Hussain Tere Lahu Ki Khushbo Lyrics 🕮

Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay
Yeh khoon-e-nahaq chupay ga kyunkar,
jisay yeh dunya chupa rahi hay

Hussain maqtal may le ke Asghar, 
qabar bananay ko chal paray hain
Rubab logo tarap tarap kar,
azaey Asghar mana rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

Tamam aalam ko yeh dikhaya,
kata kay gardan ko deen bachaya
Magar yeh ummat abhi bhi aale,
nabi ko logo sata rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

Ajab hay karb-o-bala ka manzar,
rawan hay jab ke galay pe khanjar
Arsh bhi karwat badal raha hay,
Sakina aansoo baha rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

Hussain lasha jawan ka lay kar,
chalay hain maqtal se soey khaima
Magar zaeefi qadam qadam par,
utha rahi hay bitha rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

Hussain maqtal may ja rahay hain,
jawan betay ki lash uthanay
Magar zaeefi qadam qadam par,
utha rahi hay bitha rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

Barehna sar hay Ali ki beti,
magar wohi azmat-e-Muhammad
Woh jis khatir bhara hua ghar,
luta ke karbal ke aa rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

Janab-e-Adam janab-e-Eisa,
janab-e-Maryam janab-e-Zehra
Hussain ibn-e-Ali kay gham may,
ajal bhi ansoo baha rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

Qabool karna sar ko katana,
magar na batil se khouf khana
samajh sakay to sun lay zamana,
sada yeh pyasoon ki aa rahi hay
Hussain teray lahoo ki khushoo,
falak ke daman se aa rahi hay

हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है
ये खून-ए-नहक चुपे गा क्यूंकर,
जिस ये दुनिया छुपा रही है

हुसैन मकताल मे ले के असगर,
कबर बनाने को चल परे हैं
रुबाब लोगो तारप तारप कर,
आजे असगर मन राही हाय
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

तमं आलम को ये देखा,
काटा के बगीचे को दीन बचाया
मगर ये उम्मत अभी भी आले,
नबी को लोगो सता रही हाय
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

अजब है करब-ओ-बाला का मंज़र,
रावन हाय जब के गले पे खंजरी
अर्श भी करवा बदल रहा है,
सकीना आंसो बहा रही हाय
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

हुसैन लाश जवान का ले कर,
चले हैं मातल से सोई खैमा
मगर ज़ईफ़ी क़दम क़दम पर,
उठा रही है बिथा रही हाय
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

हुसैन मकताल मे जा रहे हैं,
जवान बेटे की लश उठानय
मगर ज़ईफ़ी क़दम क़दम पर,
उठा रही है बिथा रही हाय
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

बरेहना सर है अली की बेटी,
मगर वही अज़मत-ए-मुहम्मदी
वो जिस खतिर भरा हुआ घर,
लुटा के करबल के आ रही है
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

जनाब-ए-आदम जनाब-ए-इसा,
जनाब-ए-मरियम जनाब-ए-ज़हरा
हुसैन इब्न-ए-अली के गम हो सकता है,
अजल भी अंशो बह रही है
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

क़बूल करना सर को कटाना,
मगर न बातिल से खौफ खाना
समझ सके तो सूरज ले ज़माना,
सदा ये प्यार की आ रही है
हुसैन तेरे लहू की ख़ुशबू,
फलक के दमन से आ रही है

Hussain Tere Lahu Ki Khushbo Video




Farhan Ali Waris

Latest Music Lyrics 2020