Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat Lyrics By Hafiz Ahsan Qadri

09/10/2022 394

CHECK OUT The New Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat Lyrics(Urdu/Hindi) By Hafiz Ahsan Qadri 2022. The Latest Urdu Naat Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat Is Recited By Hafiz Ahsan Qadri And The Urdu/Hindi Lyrics Are Written By Iqbal Azeem.

Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat lyrics

Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat Song Details

Song: Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat
Singer: Hafiz Ahsan Qadri
Starring: Hafiz Ahsan Qadri
Label: Hafiz Tahir Qadri
Rattings:

    Avg Rating 5.00 by 1 User(s)

Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat Lyrics 🕮

Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab E Rehmat
Wahan Koi Rutbe Main Adna Naa Aali

Muraadon Se Daamann Nahee Koi Khaali
Qatare Lagaye Khade Hain Sawali

Mein Pehle Pehle Jab MADINE Gaya Tha
To Thi Dill Ki Haalat Tadap Jane Wali

Wo Darbaar Sach Much Mere Samne Tha
Abhi Tak Tasawwur Tha Jiss Ka Khayaali

Main Ek Haath Se Dil Sambhale Huve Tha
To Thi Dusre Haath me unki Jaali
Dua Ke Liye Hath Uthte To Kaise!!!
Na Yeh Hath Khaali Naa Woh Haath Khaali

Jo Poocha Hai Tum Ne Kay Main Nazar Karne
Wo Kya Le Gaya Tha Tou Tafseel Sun Lo

Tha Naaton Ka Ik Haar Ashkon Ke Moti
Daroodon Ka Gajra Salamon Ki Daali

Dhani Apni Qismat Ka Hai To Wohi Hai
Deyar E Nabi (S.A.W.W) Jiss Ne Aankhon Se Dekha
Muqaddar Hai Sacha Muqaddar Ussi Ka
Nigaah E Karam Jiss Pe Aaqa(S.Aw.W) Ne Daali

Main Uss Aastaan E Haram Ka Gada Hoon
Jahan Sir Jhukatay Hain Shaahaan E Aalam
Mujhe Taajdaaron Se Kamm Mat Samajhna
Mera Sir Hai Shayaan E Taaj E Bilaali

Khula Hai Sabhi Kay Liye Baab E Rehmat
Wahan Koi Rutbay Main Adna Naa Aali 

MuraadonSe Daamann Nahee Koi Khaali
Qatarain Lagaye Kharay Hain Sawali.

खुला है सभी के लिए बाब ए रहमती
वहन कोई रुतबे मैं अदना ना आलि

मुरादों से दमन नहीं कोई खाली
कतरे लगाए खड़े हैं सांवली

में पहले पहले जब मदीन गया था
तो थी दिल की हालत तड़प जाने वाली

वो दरबार सच बहुत मेरे सामने था
अभी तक तसव्वुर था जिस का ख्याली

मैं एक हाथ से दिल संभाले हुए थे
तो थी दसरे हाथ में उनकी जली
दुआ के लिए हाथ उठते तो कैसे!!!
ना ये हाथ खाली ना वो हाथ खली

जो पूछे है तुम ने के मैं नज़र करने के लिए
वो क्या ले गया था तो तफ़सील सुन लो

था नातों का एक हार आशकों के मोती
दरूदों का गजरा सलामों की डाली

धनी अपनी किस्मत का है तो वही है
दियार ए नबी (S.A.W.W) जिस ने आंखों से देखा
मुक़द्दर है सच्चा मुक़द्दर उसी का
निगाह ए करम जिस पे आका (एस.ए.डब्ल्यू.) ने डाली

मैं उस आस्तान ए हराम का गड़ा हूं
जहां सर झुकते हैं शाहन ए आलम
मुझे ताजदारों से कम मत समाधान
मेरा सर है शयान ए ताज ए बिलाली

खुला है सभी के लिए बाब ए रहमती
वहन कोई रुतबे मैं अदना ना आलि

मुरादों से दमन नहीं कोई खली
कतरैन लगाये खरे हैं सवाली।

Khula Hai Sabhi Ke Liye Baab e Rehmat Video




Hafiz Ahsan Qadri Hafiz Tahir Qadri

Latest Music Lyrics 2020