Kya Kehna Lyrics By Rahat Fateh Ali Khan

14/09/2022 85

CHECK OUT The New Kya Kehna Lyrics(Urdu/Hindi) By Rahat Fateh Ali Khan 2022. The Latest Urdu Song Kya Kehna Music Is Given By Karman Akhtar And The Urdu/Hindi Lyrics Are Written By Mujtaba Sunny.

Kya Kehna lyrics

Kya Kehna Song Details

Song: Kya Kehna
Singer: Rahat Fateh Ali Khan
Music: Karman Akhtar
Starring: Affan Malik,Alishba Anjum
Label: Desi Beats Records
Rattings:

    Avg Rating 5.00 by 1 User(s)

Kya Kehna Lyrics 🕮

Kisi ki bas zara si
Bewafai maar deti hain
Mohabbat mein naa socha tha
Judaai maar deti hain

Kya kehna sab munasib tha
Samajh lete na aankhon say

Kya kehna sab munasib tha
Samajh lete na aankhon say
The dastak de rahe aansun
Tere dil ke daricho say

Ki khush fehmi naa jaane kyu
Mera sab kuch tumhi say hain
Palat kar tum bhi na dekho
Yakeenan phir kami si hain

Ulajh kar bhi mila kuch na
Mujhe apne naseebon say
Joh tum hi na huye apne
Kya lena phir rakibon say

Hain rona umr bhaar maine
Juda has kar kiya tune
Wafa ki baat karte the
Diya kaisa daga tune

Huye aadhi tumhare joh
Mohabbat chhod di tune
Magar yeh aidh karte hain
Judai hum nibhayenge

Kisi py maar ke bhi
Jeete hain kaise ye dikhayenge
Diye bhi toh diye kaise
Yeh tumne zakham katon se

Fikat tujhko hi dikhne hain
Huya kuch na tabeebo say

Kiya tha isthakara toh
Teri ulfat ko dekha tha
Main seedha ishq pe pauhchan
Mohabbat ko na dekha tha

Kanare par laga kar kyun
Kanara humsey kar baithe
Takare teri chahat ke
Adhure the joh keh dete

Yun jaana chhod kar tera
Yoon hi chup chap sah lete
Naa hote darr baadar tujhme
Naa hote hum masheeron say

Likha tha saath bas itna
Samajh lete lakeeron say
Kya kehna sab munasib tha
Samajh lete na aankhon say

किसी की बस जरा सी
बेवफाई मार देता है
मोहब्बत में ना सोचा था
जुदाई मार देता है

क्या कहना सब मुनसिब था
समझ लेते न आंखें कहते हैं

क्या कहना सब मुनसिब था
समझ लेते न आंखें कहते हैं
दस्तक दे रहे आंसुं
तेरे दिल के दरिचो कहते हैं

की खुश फहमी ना जाने क्यों
मेरा सब कुछ तुम कहो हैं
पलट कर तुम भी न देखो
याकीनन फिर कामी सी हैं

उल्झ कर भी मिला कुछ ना
मुझे अपने नसीबों कहते हैं
जो तुम ही न हुए अपने
क्या लेना फ़िर रकीबोन कहो

हैं रोना उमर भर मैंने
जुडा है कर किया तूने
वफ़ा की बात करते थे
दीया कैसा डागा ट्यून

हुई आधी तुम्हारे जोहो
मोहब्बत छोड दी तूने
मगर ये ऐसे करते हैं
जुदाई हम निभाएंगे

किसी पाई मार के भी
जीते हैं कैसे ये दिखाएंगे
दिए भी तो दिए कैसे
ये तुमने ज़खम काटों से

फ़िकत तुझको ही देखने हैं
हुआ कुछ न तबीबो कहते हैं

किया था इस्थकारा तोही
तेरी उल्फत को देखा था
मैं सीधा इश्क पे पौहचान
मोहब्बत को न देखा था

कानारे पर लगा कर क्यों
कनारा हमसे कर बैठे
तकरे तेरी चाहत के
अधूरे द जो कहते हैं

यूं जाना छोड़ कर तेरा
यूं ही चुप चाप सह लेटे
ना होते डर बादर तुझमे
ना होते हम मशीरों कहते हैं

लिखा था साथ बस इतना:
समाज लेटे लाकेरोन कहते हैं
क्या कहना सब मुनसिब था
समझ लेते न आंखें कहते हैं

Kya Kehna Video




Karman Akhtar Rahat Fateh Ali Khan Desi Beats Records

Latest Music Lyrics 2020